Total Pageviews(thanx to all my viewers)

Saturday, 14 January 2012

ज़िन्दगी

ज़िन्दगी  ऐसी ही होती है...
कभी लगती प्यारी है
कभी लगती भारी है
फिर भी कहता रहता हूँ
ज़िन्दगी मेरी सबसे न्यारी है...
ये तो मेरी तेरी यारी है....
जिस से ये दुनिया सारी है
हम तो अकेले हैं...
दूर दुनिया के मेले हैं....

फिर भी कहता रहता हूँ 
ज़िन्दगी मेरी सबसे न्यारी है...
ये तो मेरी तेरी यारी है....
जिस से ये दुनिया सारी है



2 comments:

Anonymous said...

spectacular no words for its beauty

ASHISH SINHA said...

thanx...hope i could..present some more beauty..:)